भारत के अमेरिकी राइफल खरीदने के फैसले से चीन बेचैन

भारत के अमेरिकी राइफल खरीदने के फैसले से चीन बेचैन

भारत के अमेरिकी राइफल खरीदने के फैसले से चीन बेचैन

LAC पर भारत और चीनी सेना के बीच तनाव बना हुआ है. इस बीच भारत ने अमेरिका से रायफल खरीदने के फैसले से चीन सरकार बेचैन नजर आ रही है. चीनी का सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने लिखा है कि भारत का 2,290 करोड़ रुपये में अमेरिका से हथियार खरीदना उसे सीमा पर बढ़त नहीं दिला सकता.

चीनी के विश्लेषकों ने लिखा है कि भारत की अमेरिका में बनी राइफल खरीद योजना चीन के साथ तनाव में फायदा नहीं हो सकता. 2,290 करोड़ रुपये यानि (310 मिलियन डॉलर) में भारत की यह नई डील है.

भारत के मीडिया हाउस डेक्कन क्रॉनिकल ने अज्ञात अधिकारियों का हवाला देते हुए सोमवार को सूचना दी थी कि, भारत के रक्षा मंत्रालय ने चीन और पाकिस्तान के साथ सीमाओं की रक्षा करने वाले सैनिकों के लिए अमेरिका से 72,000 सिग सोर असॉल्ट राइफलों की खरीद को मंजूरी दी है. रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय सेना 2017 से राइफलों, हल्की मशीनगनों और कार्बाइन की खरीद के साथ अपने पुराने और इन्फेंट्री सेना के हथियारों की जगह ले रही है.

नए हथियारों की खरीद को लेकर एक चीनी सैन्य विश्लेषक ने ग्लोबल टाइम्स में लिखा,  राइफल खरीद ने फिर से भारतीय सेना की कमजोर लड़ाकू तत्परता और अपने रक्षा उद्योग के निम्न स्तर को दिखाया, जैसा कि भारत के घरेलू स्तर पर विकसित, दोषपूर्ण इंसास राइफलों को बड़े पैमाने पर अमेरिकी हथियारों द्वारा बदला जा रहा है.

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां